Search This Blog

Friday, 27 March 2015

Jamoore...??? Naa Ustaad!!


Media se nahi phone pe baat karne se dar lagta hai saheb..!!
Ab tamasha dikhane wala ustaad bhi shaam ko hindi News channel dekhta hai ki kuch naya masala mil jaye to jamoore ko naye tareeke se trained kiya jaye. Rajneeti aaj kal shahrukh salmaan kareena se zyada TRP aur paisa dene lagi hai. Aur ho bhi kyu na...
Dilli sarkaar apni 5 varseeya film (49 days ke trailor k baad ki) me ekdam superheronuma entry ke sath pahle din se hi puri shiddat se film dikha rahi hai.. comedy, suspence, thrilr, romance, action, aur ab ye naya taza sting operation. film bore nhi hone de rahi.. Dilli walo ki pura vote wasool sarkaar in action. Bhai ab to serials bhi ban gaye hai party neta ke naam pe..haan naam ko thoda bigaad ke par saboot hai...Maflar. dekha to higa hi kabhi na kabhi Sab chaanel pe.

 Yahi hai rajneeti shayad. hum yuva to apne samne ek party ko paida hote aur bada hote dekh rakh rahe hai, jaan samajh rahe hai ise naya itihaas likhta dekh ki haan aisi hi hai rajneeti...
....Yogendra ji aapse ek baat puchna chahte hai..aap itne meedhe kaise rah lete hai? melody ya cadbrry ka kamaal hai ya kuch aur... ? Aapko to gussa hi nahi aata. Aap gussa control mechanism pe ek do kitaab kyu nhi likh dete. waqai, Aap diplomacy ki paribhasha ke baad ka sateek udaharan hai. Aapki kabliyat ki jitni badi prashanshak hun...apke shaant rahne ki utni badi prashndharak bhi. kabhi apni jamat me shamil karne ka dil kare to ye hum sabse bhi share kare. chaliye, kam se kam log ab wi-fi ke baare me puchna chor diye honge par haan updates k chakkar me apne phone me internet pack zarur dalwa lijiyega. Ye Umesh bhai intzaar kar rahe the kya world Cup khatam hone ka...Kal India ke haarte hi aaj inhone bhi chauka maar diya...is ball se koi out hoga ya chakka lagega ye to ane wala waqt batayega...akhir ye rajneeti hai.

Tadka lag gya hai. Ravish kumar ji Prime Time se gayab logo ko Laprek ke zariye shahar ne hona samjha rahe hai aur log samjh nhi pa rahe hai ki janades me gadbadi hui ya mausam hu kharab chal raha hai. In sab me aaj Atal ji ko Ratna milne se unk bisre geet fir se TV pe baj gaye aur Modi ji jameen adhyadesh pe fir se ad gaye. Dilli rajdhani hai aur nayi naveli party ke bharosemand neta ki uljhan me jawaan hoti dilli ki dhadkano pe pressure badh raha hai. wi-fi na sahi par phone me ye recording wale system ka to kuch kar hi dijiye CM saheb! Ab to aap bhi lapete me aa gaye.

Bhai ab to naturopathy bhi kaam nhi aa rahi... fir se kah rahe Yogendra Yadav ki spaecial classes le ke dekha jaye..bahot kaam gar hogi...kam se kam sting operation ke dank se bach hi jayenge. chala dijiye wo kya karte hai aap sab..hash tag##***:%@&@-@ twitter pe...trending ### fr kuch na kuch to jugaad ban hi jayega aur Anushka Sharma ko bhi thodi rahat mil jayegi. Aakhir, twitter hi to aaj kal sab sambhal raha hai.

Tuesday, 24 March 2015

मुस्कराहट का वज़न कम कर दिया मैंने,
हसने का हर्जाना बड़ा महंगा पड़ा दोस्तों। 

जीने में थोड़ी उदासी बढ़ा दी मैंने,
खुश हो के जीना ज़िन्दगी को महंगा पड़ा दोस्तों। 

अब तरकीब नहीं सुझाते उसे बेहतरी की,
उसका सुर्ख हो जाना मेरा मर्ज़ बना दोस्तों। 

साँसे भारी हो कर पीते है अब,
पहली नज़रो से हल्की साँसों का मिलना धड़कनो पे भारी पड़ा दोस्तों।


कि अब दरवाज़ों पे कुण्डी डाल दी मैंने,
खुली आँखों से बेपर्दा आना बड़ा महंगा पड़ा दोस्तो।
कि  वो आएंगे इस इंतज़ार में कई दफे लुटना पड़ा दोस्तों।

Monday, 16 March 2015

Use n Through Romance..!!

Use n Through pen k sath sath ab market me kai tarah ki cheezen aa gayi hai use n through wali. China ki den hai aur humari meharbani. Khair, ab use n through romance aur use n through pyaar ka chalan badh gaya hai aaj kal. shikaari shikaar dhoondte rhte hai. lamba chalne wale khatedaar hai to sambhal ke thoda. kahi use kr k fenk na uthiye market me. accha, aaj kal ye dar nahi rah gaya ki fr koi puchega nahi...use n through se usage capacity bhi badhi hai. Ab agar dubara use nahi hona chahte ho to market me chaukanne rahe. consumer court thodi nasaaz hai abhi is mamle me. isme CHINA ko dosh mat dijiyega. Waise bhi Hindustani dil hai hi ishq mizaaj, kya kariyega.

  Hum aaj kal Nawaabo k shahar me dera jamaye hue hai...LUCKNOW. shahar me ghuste hi swagat me likha milta hai "Muskuraiye aap Lucknow me hai"...aur ghuste hi raah chalte log khte hai "hasi to fasi". aise mahaul me sambhalna thoda mushkil hai. ye permanent wala tag lagi dukaan bhi ab dhokha dene lagi hai, puri gaurantee nahi de pati...haan bhai, achaa aap samjhe nahi, arrey bhai shadi-vivaah ..Aaj kal ye mamle bhi zyada kaargar sabit nahi ho pa rhe hai. mamla gambhir hota ja rha hai. hum zyada bolenge to puchna shuru ho jayega ki arrey apko bhi koi use n through ke mamle me fasa gaya kya? Aadatan, dusro se aise sawal puchne me maza jo ata hai. Arrey huzoor, market me ab brands ki kami nahi hai. apne hisaab se chunte jaiye. Sale wale me thoda sambhaliyega. used hua to fr bhi ganimat, defaulted piece nikal gaya to dikkat ho jati hai. 

 Jab baat choice ki ho rahi hai to ek baat zehan me aati hai. Hum zindagi bhar apni pasand ka dost, pyaar, sathi pane ke chakkar me na jane kitna trail kar lete hai.  Aur na milne par kuch log kitni dafe market se hi muh mod lete hai. par kya kabhi socha hai, jahan hume ye zindagi naseeb hoti hai, jinse hoti hai, aur jinke sath hoti hai, wo humari pasand ke honge ya nahi ye humse koi nhi puchta. bas hume milte hai kuch log maa baap bhai behan pariwaar k naam par aur  maze ki baat to ye ki humari zindagi ka sabse imp part bina humari pasand ke milta hai. shayad tabhi hum zindagi bhar isi khunnas me apni pasand ke liye ladte rahte hai. shukr hai, kapde aur samaan ek jaise kai sare bante hai. ye bhi insaano jaise hote to inke liye bhi rishte laye jate. Thali ke liye Katori, Chakla ke liye belan, sofa k liye table, bed ke liye bedding, AC ke liye Heater, pani ke liye Bijli....sabka standard hota. Thali bolti apni dost se katori ko dekh, haaye kitna glu molu hai. mere sath kitna jachega na ye. chota hai to kya hua main isko apne yahan adjust kr lungi. Rishta na hone par katori gussa k bolta hai, hai hi kya tu. koi curve nhi, puri flat hai. Aaj kal curve ka zamana hai, main plate ke sath ji lunga. par tujh ghamandi ke paas dubara kabhi na aaunga. ohho hhoo..boring ho gaya. pr Hum insaan bhi aise hi double triple ho jaye to thodi museebte kam ho jaye shayad. AB clones banne lage hai, kuch din me insaan bhi banne shuru ho hi jayenge.

   Waise acha hai. kuch na kuch naya hote rahna chahiye. experience ki kadr hoti hai...use n through ke chalan se kai log experienced hote ja rahe hai...Romence me...Love shove k mamle  me. 

Muskurate Rahiye, Pyaar Karte rahiye, Aate rahiye...
:-)

Sunday, 8 March 2015

कुछ लिखिए ज़रा! खुद का रेप होना कैसा लगता है?

Women's studies की स्टूडेंट होने के कारण और अपना एक ब्लॉग पेज होने के कारण कई लोगों ने  मुझसे कहा, अरे आपने आज कुछ लिखा नहीं? आप निर्भया पे कुछ क्यों नहीं लिखती? एक आम लड़की क्या सोचती है इसके बारे में? यार, कुछ लिखो  आज ? विमेंस डे है आज?और तुम वो क्या वीमेन वाला सब्जेक्ट पढ़ती हो? मेरे बताने पर, हाँ हाँ वही विमेंस स्टडीज। एक्सप्लेन करते हुए अपनी सफाई में एक जवाब तुरंत आता है,अब  इसे कोई पढ़ता नहीं ज़्यादा तो नाम भी याद नहीं रहता। फेमिनिस्ट हो, कुछ लिखो यार तडकता भडकता।मैं फेमिनिस्ट हूँ, मैं ये नहीं मानती। क्युकी अभी तो मैं फेमिनिस्ट होता है या होती है, यही जानने की कोशिश में हूँ। विमेंस स्टडीज स्टूडेंट होने के नाते बाई डिफ़ॉल्ट फेमिनिस्ट का ठप्पा लगाने में लोग बिलकुल देर नहीं करते।

 ऐसा लगा जैसे डिमांड में है आज कल लिखना और लिखा हुआ पढ़ना औरतों के बारे में।  वैसे ही BBC की नयी नवेली फेमस डॉक्यूमेंट्री ने RAPE को होली में थोडा रंगीन बना दिया BAN हो कर, वो भी आधा आधा।  YOU TUBE पे सब दीखता है। BBC ने वैसे बॉलीवुड को कॉपी कर अपनी डॉक्यूमेंट्री को उसके मुकाम तक पंहुचा दिया। जहाँ इस डॉक्यूमेंट्री पर लोग बिना इसे देखे ही इसके बारे में लिख दे रहे है।  पॉजिटिव नेगेटिव न्यूट्रल तर्क वितर्क, आलोचना, समालोचना। आप चाहते है कि आज इस "गुलाबी रंग" से रंगे इस दिन में मैं बिना किसी रंग से रंगे  आंसू का हिसाब लिखू? इस गुलाबी दिन पे मैं उसके लाल बेवजह पर अपनी वजह लिए बहते खून की माप लिखू? लिखू की मैं क्या महसूस करती हूँ जब सोचती हूँ की "उसके" साथ ऐसा कुछ हुआ होगा? या कुछ बेहतर पढ़ने के इच्छुक पाठक के लिए मैं फील करू दर्द क्या लगेगा एक लड़की को जब उसका RAPE हो रहा होगा। … और क्या कि अगर वो मैं होऊ? मुझे ऐसा लिखता पढ़ बहुत से मेरे करीबी अच्छा नही महसूस कर रहे होंगे।  माफ़ी चाहती हूँ। माहौल को अच्छा करते है। चलिए इसे उस नज़रिये से देखते है जिस नज़रिये के साथ मुझे इस विषयी पर ब्लॉग लिखने का आग्रह किया गया था।  कि मैं एक  महिला होने के नाते उन बिन्दुओ को उजागर कर बेहतर तरीके से प्रस्तुत कर सकती हूँ, जो एक महिला ही फील कर सकती है। मुझे नेगेटिव नही होना चाहिए क्युकी मैं आपको नेगेटिव नै करना चाहती। आखिर में मैं आप मिडिल क्लास ही तो इंडिया गेट पर बैठने वाला है। जब मैं खुद के बारे में ऐसा लिखू या बोलू तो मुझे लगता है कि मेरे करीब लोगो को यह पढ़ कर अच्छा नहीं लगेगा।  तो ज़रा सोचिये 'उसे' उस दिन/रात /दोपहर में कैसा लगा होगा? बिलकुल सही, मैं कुछ नया नही पूछ रही। न कुछ नया बोल रही।  मैं बात भी किसी नए विषय पर नहीं कर रही। RAPE की न्यूज़ देख हम बस थोड़ा कम चौंकते है जितना हम आज कल  ISIS की रोज़ सर कलम करते फोटोज को देख कर होते है। यह हमारा कल्चर बनता जा रहा है।  मैं यहाँ बिलकुल नही बोलने वाली कि एक आम मामूली सी लड़की क्या सोचती है बलात्कार के बारे में। मुझे नही फर्क पड़ता कि उस डॉक्यूमेंट्री में उस आदमी ने क्या कहा? क्युकी वो तो यही कहेगा न।  इसे इतना चौकाने वाली कौन सी बात है? अगर वो दिमागी तौर पर स्वस्थ होता तो वो उस दिन ऐसी घिनौनी हरकत करता? हाँ, हैरानी इस बात की है कि  वो अपनी गलती कुबूल नही कर रहा। तो ठीक है , सजा दीजिये उन्हें। आप पुरुष वर्ग हम महिलाओं का ध्यान रख्ह्ना चाहते है। बहुत सुन्दर विचार। हम भी वही करते आ रहे है जन्मो से। पर आपसे हो नहीं पा रहा शायद।

मैं जब बाहर निकलती हूँ तो मुझे खुद पर भरोसा होता है अपना काम कर लेने का। मेरे परिवार वालो को मजबूरी में भरोसा और धीरे धीरे उगता एहसास होता है कि अभी तक कुछ न हुआ, शायद आगे भी कुछ न होगा। इस बीच में मुझे कोई इस बात से परेशान करें कि सब ठीक है पर परेशानी आपके लड़की होने में है। क्यों की कुछ लोग मानते है कि लड़की को एक तय सीमा में काम करना चाहिए। आपको बता दूँ ये LIBERAL लोगो की विचार धारा है जो अपने घर की औरतों को बाहर भेजते है। CONSERVATIVEऔर ORTHODOX तो भेजते ही नहीं है। आजकल  orthodox liberal भी आ गए है मार्किट में। मैं वैसा ही महसूस करती हूँ जैसे किसी के बैडरूम में बन्दर घुस के नाचने लगे और सारा सामान तहस नहस कर दे। जो आपको फील होगा उससे कही ज़्यादा बुरा लगता है। बहुत सी परेशानी है मुझे आपके रवैये से जिसे आप समाज के रूल बुक में शामिल कर मानने को कहते है। मुझे नहीं बात करनी की क्या हर दिन हर घर की महिला को compulsory and born to be a women वाली कैटगोरी में रख उनसे कुछ बातें नेचुरली एक्सपेक्ट की जाती है। सुबेज उठकर वे चाय बनाये। मर्द केवल वीकली बना दे तो वाह वाह जी। आप लकी है कि  ऐसा साथी मिला है। वो रोज़ खाना बनाये। क्यों? क्युकी वो औरत है। वो माँ है। वो देवी है। वो ममता का भण्डार है।सच में? खैर,वो आप रोज़ देखते है अब उसे क्वेश्चन करना शुरू करिये न कि लेख पढ़ के और लिख के खिसक लीजिये। इस के लिए हमारे पुरुष साथियो को काम करना होगा वैसे ही जैसे वो आसानी से करती है हर दिन। मैं नाराज़ हूँ क्युकी बहुत कुछ है जो औरतों को बदलना होगा खुद में। तभी कुछ बेहतर हो पायेगा।
कुछ सवाल है आपसे। क्या हक़ है आपको हमारे होने पे सवाल उठाने का? क्युकी आप के भाई बंधू  खुद पर CONTROL नही कर पाते। क्या हक़ है आपको हमे अपनी इज़्ज़त बता घर में छुपाने का? क्युकी आप अपनी प्रजाति की कमियां  छुपा सके। क्या हक़ है आपको हमे  घूरते रहने का? येही जानना है न कैसा लगता है हमे उस वक़्त? अंदर तक नफरत होती है हर लड़के से और दुःख होता है मैं ऐसे ही किसी लड़के की बहन बेटी या बीवी हूँ। फिर भी हर दिन खुद को समझहा कर हम प्यार करते है आपसे। नफरत होती है इस दो मुहे समाज से। आँखे नोचने का नही, उन पर थूक कर उनकी औकात बताने का मन करता है। क्या हक़ है आपको हमारे कपडे फाड़ने का? क्या हक़ है आपको हमे कपडे पहनाने का?  हम सक्षम है। हमे साथ चाहिए। जैसे आप अपनी महिला साथी से चाहते है।
हम RAPE नही करने लगते। हम में ये अच्छी बात है, आप भी सीख लीजिये इन्हे। न सीखने का हर्जाना हम नही भरेंगे अब। सिर्फ इसलिए कि मैं एक लड़की हूँ इसलिए मुझे जज किया जायेगा। ये कही से भी वाजिब नहीं। बहहुत गुस्सा है इन बातो को लेकर। मैं आपसे किसी से नफरत नही कर रही पर मैं धमकी भी देने की स्तिथि में नही हूँ।किसे दूँ, इस प्रजाति में कुछ अपने है, कुछ गलत नहीं है। हमारी प्रजाति में कुछ अपने नही है और कुछ गलत है। मुझे दोनों से नफरत है। मैं वादा और दावा दोनों करती हूँ कि बदलाव आ रहा है और आएगा। एक तस्वीर बनाने में चलिए मदद करे जहाँ कभी कोई लड़की गुलाबी पलकों से खून के आंसूं नहीं रोये सिर्फ इसलिए क्युकी वो एक लड़की है।

बहुत कुछ कहना है..... अगला पोस्ट जल्द ही
"मैं विमेंस स्टडीज की छात्रा हूँ"

हैप्पी वीमेन डे !!
जल्द ही वो दिन आये जब इसे मनाने का मौका न ढूढ़ना पड़े.…