Search This Blog

Saturday, 20 February 2016

Why is housework still a mother's job?


Today one of my teachers has shared this video on whatsapp group. I havent seen this advertisement before, because i do not have television here. Ab is smart phone k zamaane me wo kami kahlti bhi nahi. But television makes you watch advertisements....when you desperately wait for next segment of your fav serial or reality show or any news. Sports channels generally dont torture like other channels. Some advertisements are very good, worth watching not because of their products...ultimatly all the products are the best in the advertisements, but bcz they are disseminating some msgs, values thru their ads. Creative team of Ariel and surf excel have always done this, many others are doing so. This ad tells something to us.

 Why is housework still a mother's job? For many of us asking such question seems like we are questioning motherhood of our mothers, isn't it? Earlier, when i shared Men's world video on my blog, i was hesitant and felt ignorant as if i hav shared some nonsense. Bcz no one talked abt it fr so many days. Later on, my max frnds told me that they hav enjoyed it and aftr watching it they followed the whole series of Men's world. Its awesome...vry articulated..were the comments. Since then i learnt that its not about comments...sometimes people prefer action rathar than reaction.

There are many things which i can request you to pay attention to and if possible...learn. I have chosen this part..not because i am one of the sufferers but i am that gudiya who think that we should realize that 'gudiya' is not made for 'it'. I am a woman and that is the biggest reason. I love my brother, bcz we both understand each other's pain. I love my dad, he undrstands me, he feels sorry and now he has started helping my mother. In fact, last time when i was at home, he prepared tea for me and maa for the first time. I would love my husband, if both of us will put same efforts  for our home and life. That gudiya is very strong, she feels sorry for you that 'you' are so pampered. Even You cant take care of yourself. Plz grow up so that she can have some time for other things too. I know many male friends of mine who cook awesome and 100 times better than i do.
Things have changed a lot now male partners are supporting their female partners. But...yeah but is there.... still the fact remains the same what this ad talks about. Well, i spoke a lot, better you react and act now. Ye abhi facebook whatsapp pe khoob chayega..humpe bhi thoda khumaar chade ab inka to kuch maza aaye.

Tuesday, 16 February 2016

The Story of Mens******* 😷😷😷

                     Courtesy: youtube

This 1946 10 minutes long animated short film was produced by Walt Disney productions. It was a part of 1945-51 series of films produced by disney for american school. A gynecologist was hired to ensure the scientific accuracy.
It was one of the first commercially sponsered films to be distributed in the high schools. A booklet was also distributed for the teachers and students called ' very personally yours' that featured advertisements of some brands to be used and some directions for the girls.

It can be considered as one of the options in India too. Video has explained menstruation in a very simple and 'politically correct' language.

This platform is not visited by the target group still very helpful for many of us. Do watch and forward it to ur younger ones. It will be helpful. Stay healthy and well informed!!

सिगरेट

कभी तुम वो सिगरेट जलाने से पहले बुझाना
शायद सपनो के राख कम मिले फिर ,
ढेर था सपनो का कमरे में
धुएं में सही से देख नही पाती अब
एक पन्ने पे लिखा था
तुम्हारी मेरी
हमारी पसंद
जल गयी वो कुछ कुछ
मेज पर पड़े पड़े

कल खिड़की खोल दी थी
बिंदी टेड़ी लग जाती थी
आइना धुंधला सा पड़ गया है कुछ
होठ गुलाबी  ही है न
देखना चाहती थी
वो तुमसे मिल के कही...

कभी उनको देखा
जिन्हे मैंने आधे पे
बुझा दिया था
वो कही गिरी
जलती बुझती मर जाती है
तुमसे छूटते ही
हमारा साथ, सपना, दिल
उस आधी जली
सिगरेट सी हो गयी है।

आज हाथ की पकड़ में
उसी की महक थी
कल भी
तुम्हरी महक भूल गयी मैं जैसे
कभी सिगरेट जलाने से पहले मिलना
 शायद तुम्हे मेरी महक मिले

कभी सिगरेट जलाने से पहले बुझाना
उन आधी सिगरेट की जगह
अपने अधूरे सपने याद आये
तू मैं एक ज़िन्दगी समझ आये
नाराज़ हो के न जा
ये झगड़ा एक डिब्बी सिगरेट का नही
मैं तो आधी बुझती जलती
जान के लिए लड़ रही
चाहे वो सिगरेट हो
या फिर हम

वो जलती है और हम मरते है
सच में, कभी सिगरेट जलाने से पहले बुझाना


Monday, 15 February 2016

आप के होने और बन्ने में कई लोगो का सहयोग होता है। हम कितनी दफे सोचते है पर उनसे कह नही पाते जो हम कहना चाहते है। वैसे तो मेरे जान पहचान के बहुत लोग इस पेज को नही पढ़े शायद, फिर भी मैं आप सबको शुक्रिया कहना चाहती हूँ। ज़्यादा बातें नहीं करुँगी। बहुत कम होता है जब मैं शांत रह कर कम शब्दों में आपसे कुछ कहू। आज उनमे से एक है। आप इसे पढ़े तो बस मुस्कुरा के मुझे याद कर लीजियेगा इससे मेरी कई बदमाशियां शैतानियाँ गलतियां माफ़ हो जायेगी। आपसे माफ़ी मांगना नही चाहती। बड़ा फक्र है कि मेरे पास आप है या कभी थे और आज नहीं है सामने।
मेरी ज़िन्दगी के हिस्से में अपनी ज़िन्दगी को जोड़ने का शुक्रिया।

अभी सुना एक ग़ज़लकार को....
 परखना मत....परखने से कोई अपना नही रहता
आईने में चेहरा हमेशा नही रहता...

Thursday, 11 February 2016


रहिशियत का पता
जेब के भारी होने से पता चलता तो
हर माँ गरीब होती
और हर इश्क़ बेजार होता।


Sunday, 7 February 2016



ये समन्दर का किनारा देख रहे हो
फलक झुक जाता है 
सारी अकड़न छोड़ के
जब इल्ज़ाम लगता है
उसपे बेवफाई का
अर्श गिरता नही फर्श पर
वो तो उस कोने पे
हाँ वही जहाँ तुम देख रहे हो
मिल जाते है कुछ यूँ जा के
ये उनका घरौंदा है शायद
दुनिया से छुप मिलते है वहां 
जहाँ कोई उन्हें छु न सके
देखने से उन्हें परहेज़ नही शायद

तुम्हे पता है,
मैं जब थक जाती हूँ
दुनियावी दिखावो से
अपना भी एक क्षितिज चाहती हूँ
जहाँ ये पता न चले
मैं उठ के तेरे पास आई
ये तू झुक के मेरे साथ चल पड़ा
मैंने पानी की बौछारे मारी
या तू थक कर उनमे डूब सा गया
जहाँ तेरे नाम से मेरा नाम नही
वजूद से मेरी पहचान जुड़ जाये
जहाँ वो पहुचना चाहे
फिर हम और दूर नज़र आये

क्या ऐसा एक क्षितिज हमारा हो सकता है?